रॉयल बंगाल टाइगर ने गाय को शिकार बनाया

रॉयल बंगाल टाइगर ने गाय को शिकार बनाया

संवाद सूत्र (डेली वर्ल्ड) / बेतिया

पश्चिम चम्पारण जिला के गौनाहा प्रखण्ड क्षेत्र में वाल्मीकि टाइगर रिज़र्व (वीटीआर ) के जंगलों में कई दिनों से घूम रहे बाघ ने एक बार फिर पालतू पशुओं पर हमला बोलना प्रारम्भ कर दिया है। वीटीआर अंतर्गत गोबर्धना वन प्रक्षेत्र के सिट्ठी पंचायत के मंडिहा गाँव के पश्चिम बहने वाली चोरहवा नदी पास एक बाघ ने रविवार की संध्या एक गाय को मार डाला है। पशुपालक दिनेश महतो को उस जानकारी मिली जब अपने पशुओं को बांधने गौशाला गया और गिनती में एक गाय कम पाया, इतना ही नहीं दूसरे गाय के शरीर में बह रहे खून देखा तो उसकी जिज्ञासा बढ़ी, तो सुबह गाय को चराने गये स्थान के आसपास ढूंढा, परन्तु वर्षा होने के कारण कोई साक्ष्य नहीं मिल सका। अंततोगत्वा पशु पालक ने गाय के साथ होने वाली घटना की सूचना वन विभाग को दी।
वन कर्मियों के साथ सिरिसिया वन प्रक्षेत्र के फॉरेस्टर आमेद कुमार मंडल घटना स्थल पर पहुंचे परन्तु तेज़ वर्षा ने कोई साक्ष्य नहीं रहने दिया। बाघ द्वारा गाय को मारे जाने सबूत तो नहीं मिला लेकिन बावजूद इसके वन कर्मियों के कड़ी मशक्कत के बाद कुछ दूर जंगल में जाने के बाद एक मृत गाय जो कि आधा हिस्सा खाया हुआ पाया। उसके आसपास रॉयल बंगाल टाइगर के पदचिन्हों को पाया गया।
बाघ के पदचिन्ह की माप से इस बात का खुलासा हुआ कि वही बाघ है जो कि शुक्रवार को पिराड़ी के पास वाली जंगल के किनारे एक बछड़े को मार चुका है। गोबर्धना वन प्रक्षेत्र के रेंजर मानवेन्द्र चौधरी ने बताया कि जंगल के किनारे वाले गांव वालों की हिदायत दी गई है कि, जंगल के किनारे वाले खेतों में अकेले न जाये तथा जिनके पशु है वो जंगल के किनारे चराने न ले जाये। ग्रामीण लोंगो केग है कि जल्द से जल्द बाघ को पकड़ा जाए,।जिसे लोगो मे दहशत कम हो सके।

Leave a Reply

*